सरल आवर्त्त गति Simple Harmonic Motion

2

सरल आवर्त्त गति (Simple Harmonic Motion)
सरल आवर्त्त गति Simple Harmonic Motion
सरल आवर्त्त गति Simple Harmonic Motion

सरल आवर्त्त गति Simple Harmonic Motion explained
आवर्त्ती गति(Periodic motion)-

जब कोई पिण्ड निश्चित समयान्तराल में एक निश्चित पथ पर अपनी गति को बार-बार दोहराता है ,तो इस 
प्रकार की गति को आवर्ती गति कहते है

दोलनी गति अथवा गति(Oscillatory or Vibratory motion)-

जब कोई पिण्ड आवर्ती गति मे एक ही पथ पर निश्चित बिन्दु के इधर-उधर गति करता है तो इस प्रकार की गति को दोलनी गति कहते है
आवर्त्तकाल(Periodic Time)-

दोलन गति करते हुए पिण्ड द्वारा एक दोलन पूरा करने मे लगा समय पिण्ड का आवर्त्तकाल कहलाता है৷

प्रत्यानयन बल(restoring force)-

कम्पन्न करते हुए कण पर एक ऐसा आवर्ती बल कार्य करता है जो कण को साम्य स्थिति मे लाने का प्रयत्न करता है
इस आवर्त्ती बल को प्रत्यानयन बल कहते है
इसकी दिशा सदैव साम्य स्थिति की ओर होती है
विस्थापन (दिशा) के विपरीत होती है
 
सरल आवर्त्त गति Simple Harmonic Motion
(Visited 27 times, 1 visits today)

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here